शेयर मार्केट कैसे काम करता है?

भारत में आजकल शेयर मार्केट में इन्वेस्टर काफी तेजी से बढ़ रहे है और कुछ लोग शेयर मार्केट के बारे में जानकारी इकठ्ठा कर रहे ताकि वह भी शेयर मार्केट में इन्वेस्ट कर सके परन्तु कुछ लोगो के मन एक सवाल उठ रहा है की आखिर शेयर मार्केट कैसे काम करता है क्या इसमें कोई धोखा धड़ी तो नहीं होता और ये जानना बहोत जरुरी है यदि आप ये जान जाते है की शेयर मार्केट काम कैसे करता है तो आप निडर होकर शेयर मार्केट में निवेश करने लगेंगे।

शेयर मार्केट कैसे काम करता है?


भारत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज दो लोकप्रिय शेयर बाजार है जहाँ से आप किसी भी शेयर बाजार में जुडी हुई कंपनी का शेयर खरीद और बेच सकते है।

शेयर मार्केट काम कैसे करता है यह समझने से पहले आपको यह समझना जरुरी है की शेयर क्या होता है, शेयर को आसान शब्दों में कहा जाए तो इसे हिस्सा बोलते है जब भी आप शेयर मार्केट से जुडी हुई किसी कंपनी का शेयर खरीदते है तो आप उस कम्पनी के कुछ प्रतिशत मालिक बन जाते है।

शेयर खरीदने से कमाई कैसे होती है?

शेयर खरीदकर हम दो तरीको से पैसे कमाते है जिसमे पहला तरीका ये है की जब भी हम किसी शेयर को खरीदकर कुछ वर्ष के लिए होल्ड करते है तो कंपनी हमें डिविडेंट देती है।

और दूसरे तरीका यह है की जब आप किसी शेयर को खरीदकर कुछ वर्ष के लिए होल्ड करके रखते है तो शेयर्स के भाव बढ़ते है जैसे 2021 में आप किसी x नाम की कंपनी का एक शेयर 200 रूपये में ख़रीदे है और 2026 में x नाम की कम्पनी के शेयर का भाव बढ़कर 900 रूपये हो गए तो आप इस शेयर को बेच कर 700 का मुनाफा कमा सकते है।

शेयर मार्केट में घाटा कैसे होता है?

शेयर मार्केट में शेयर का भाव कम होने से घाटा होता है इसलिए शेयर मार्किट से शेयर खरीदने से पहले आपको यह सीखना चाहिए की किस कंपनी का शेयर ख़रीदे यदि आप शेयर खरीदने से पहले कंपनी के बारे जांच पड़ताल नहीं करते है की कंपनी भविष्य में चलेगी या बंद हो जाएगी तो आपको नुक्सान भी उठाना पड सकता है।

शेयर के भाव कम या ज्यादा क्यों होते है?

शेयर के भाव घटने या बढ़ने के कई सारे कारण हो सकते है जैसे - 
1.एक दिन में किसी कंपनी का शेयर बेचने वालो की संख्या 50000 है और खरीदने वालो की संख्या 1000 है, बेचने वालो की संख्या ज्यादा होने के कारण इस कंपनी के शेयर का भाव घटेगा।

और यही पर अगर कंपनी के शेयर को खरीदने वाले 50000 लोग है और बेचने वाले सिर्फ 1000 तो शेयर का भाव बढ़ेगा।

2 .कंपनी अगर हर वर्ष 20 या 40 प्रतिशत की दर से विकाश कर रही है तो कंपनी के शेयर का भाव बढ़ेगा लेकिन इसके उलट कंपनी की विकास हर साल कम होते जा रही है तो लोग इस कंपनी के शेयर को बेचने लगेंगे जिसकी वजह से इसका भाव और भी कम होता चला जायेगा।

3. यदि कंपनी ने ज्यादा कर्जा लिया है तो पहली बात तो ऐसे कंपनी में कोई पैसे निवेश नहीं करता लेकिन जो लोग पहले से निवेश किये होते है वो शेयर बेचने लगते है जिसकी वजह से शेयर का भाव काम होने लगता है और इसका उल्टा अगर कंपनी अपना लिया हुआ कर्जा धीरे-धीरे चूका कर कम करती है तो शेयर के भाव बढ़ने लगते है।